Piyush Mishra shayari | पीयूष मिश्रा शायरी

Piyush Mishra shayari post में पढेंगे एक से बढ़कर एक पीयूष मिश्रा के विचार और शायरी के संग्रह को.
Amazing Piyush Mishra Poetry Hindi को पढ़ने का आनंद आएगा। दोस्तों आज की पोस्ट उन सभी शायरी के चाहने वालो के लिए जो Quotes By Piyush Mishra का इंतजार कर रहे थे

बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री पीयूष मिश्रा का नाम एक चमकते सितारे की तरह हैं. पीयूष अपनी कड़ी मेहनत, लगन और अपने एक अलग अंदाज़ की वजह से हमेशा अपने चाहने वालो की पसंद बने हुए हैं। आज इनके लाखो में चाहने वाले हैं.

Piyush Mishra कई कलाओं में परांगत हैं वो लेखक, गायक और संगीतकार के साथ-साथ बहुत ही अच्छे शायर भी हैं। फिल्मो के लिए गाने लिखे, कहानिया लिखी और एक से बढ़ कर एक डायलॉग भी लिखे.

Piyush Mishra Quotes In Hindi

दोस्तों आज की Piyush Mishra Shayari के पोस्ट में पढ़ते हैं अब पीयूष मिश्रा के कलम से लिखी गयी बेहतरी शायरियों और उनके विचारो के संग्रह को जो आपके दिलो को छू लेगा.


“ना मुस्कुराने पर किसी की मोहर नहीं है, उदासी किसी के बाप की धरोहर नहीं है”


“आओ यार बस एक बार, ज़िंदा हो बात कर लें, ख़ाक हो गए हैं मज़ाक, फिर भी मज़ाक कर लें.”


“वो लड़का जिसने कल सुसाईड कर लिया ना, सुना हैं उसके गले पर निशाँ मिले हैं, उन ख़्वाबों के जो उसने आँखों में बुने थे.”

piyush mishra love shayari
Piyush Mishra Quotes In Hindi

Piyush Mishra Shayri

“इन्द्रधनुष के सारे रंग मिला कर उसने मुझे दिखाया, सादा दिल ऐसा होता हैं.”

“एक इतवार ही है जो रिश्तों को संभालता है। बाकी दिन किश्तों को संभालने में खर्च हो जाते हैं।”

“इलायची के दानों सा मुकद्दर है अपना। महक उतनी ही बिखरी, पीसे गए जितना।”

Amazing Piyush Mishra Poetry In Hindi

“इंसान सिर्फ दो नस्ल के होते हैं। एक होते हैं हरामी और एक बेवकूफ। और सारा खेल इन दोनों का है।”

“एक छोटी सी गुजारिश है बंधु, अपने लेफ्ट और राईट के चक्कर में बस अपने देश को ना भूल जाना”

“अगर बेवफाओं के सिर पर सींग होते, तो मेरी वाली आज बारहसींघा होती।”

Piyush Mishra Poetry

“शिकायत और दुआ में, जब एक ही शख्स हो, समझ लो इश्क करने की अदा आ गयी तुम्हे.”


“कैसे करे हम खुद को, तेरे प्यार के काबिल, जब हम आदतें बदलते हैं, तो तुम शर्ते बदल देते हो.”

piyush mishra quotes in hindi
Piyush Mishra Quotes In Hindi

“ना चाहत के अंदाज़ अलग, ना दिल के ज़ज्बात अलग, थी सारी बात लकीरों की, तेरे हाथ अलग, मेरे हाथ अलग.”

पीयूष मिश्रा के विचार


“जाने कितनी ही इच्छाएं दफन हो गयी मन के अन्दर, और उदासी की एक कोंपल उग आई उसके ऊपर.”

“सूकून मिलता है दो लफ्ज कागज पर उतार कर, चीख भी लेता हूं और आवाज भी नहीं होती।”

“गुस्सा आदमी से बहुत कुछ करवाता है, और ये जो लव है ना लव? ये सिर्फ मरवाता है।”


“कुछ ऐसे मुझसे मिल रही हैं, की जैसे मुझको भुला चुकी हैं. ये दिल हैं कोई हवेली जिसकी, चमक-दमक में वीरानगी हैं.”

“वो काम भला क्या काम हुआ जिसमें साला दिल रो जाए, और वो इश्क भला क्या इश्क हुआ जो आसानी से हो जाए।”
“दर्द की बारिशों में हम अकेले ही थे। जब बरसी खुशियां, ना जाने भीड़ कहां से आ गई?”

Piyush Mishra Shayari


“कहीं ये सीधी साधी जिंदगी है, कहीं पे भोली भाली जिंदगी है, कहीं पे रूखी, कहीं पे भूखी, कहीं पे खाली खाली जिंदगी है”


“क्या लगाओगे रे बोली तुम मेरे इक शेर की, कीमती ही इसलिए है क्यूँकि ये बिन दाम है।”


“वो नज़र आता है नहीं तो है ख़ुदा किस काम का, ढूँढता मुरख हवा को मुझपे ये इल्ज़ाम है।”

piyush mishra inspiring shayari
Piyush Mishra Poetry


“इक पेड़ झाड़ लोमड़ सियार की अगर हुकूमत मे हैं, अरे क्या परवाह है हमें यार हम राजा हैं जंगल के।”


“चर्चे ये शायरी के सारे तमाम ला, जलती-सी इक रुबाई तपता कलाम ला, ग़ज़लें ये मेरी सारी कब की हैं सड़ चुकीं, ग़ज़लों से भी ज़रूरी कोई तो काम ला.”

Beautiful Piyush Mishra Poetry

“कैसे करें हम खुद को तेरे प्यार के काबिल, जब हम आदतें बदलते हैं तुम शर्ते बदल देते हो।”


“कभी-कभी ऊपर वाला भी सोचता होगा, इतना तो मैं भी कभी नहीं लड़ा था जितना ये साले मेरे नाम पर लड़ रहे हैं।”

Best Piyush Mishra Quotes

“इंसान खुद की नजर में सही होना चाहिए, दुनिया तो भगवान से भी दुखी है।”
“आने वाले कल में कुछ, ऐसा हड़कंप मिलेगा की सर्द सांप गर पालोगे ठंडा ही डंक मिलेगा.”


“दायरा हर बार बनाता हूं जिंदगी के लिए, लकीरें वहीं रहती हैं मैं खिसक जाता हूं।”
“सोचता हूं धोखे से जहर दे दूं सारी ख्वाहिशों को दावत पे बुला कर।”


“शुक्र करो की हम दर्द सहते हैं लिखते नहीं, वरना कागजों पर लफ्जों के जनाजे उठते।”


“कुर्सी है जनाजा तो नहीं। कुछ कर नहीं सकते तो उठ क्यों नहीं जाते?”


“हल्की-फुल्की सी है जिंदगी, बोझ तो ख्वाहिशों का है।”


“सब रस्ते घर को जाते हैं, तो घर कैसे घर खो जाते हैं , दिन को चमके सूरज से हम, शाम को दरिया हो जाते, थक गए सपने पुरे करते, अब हम थोडा सो जाते हैं.”


“वो कुछ तो मुझसे छुपा रहा हैं, नई कहानी बना रहा हैं, मैं अब भी थोडा सुलग रहा हूँ, वो राख मेरी उड़ा रहा हैं.”

Best Piyush Mishra Poetry In Hindi
Best Piyush Mishra Quotes


“हम हर लम्हे को जीते हैं और हर लम्हे पे हक़ है, हम आज की तारीख़ के मुरीद तुम बन्दे बीते कल के।”


“लो आया मौसम झूम के मर जाने का, सपनों भरी आँखों में कहीं खो जाने का, देख के किसी को बस देखते ही जाने का, सोच के किसी को बस सोचते ही जाने का”


“जब क़ायनातों ने नशे की बात भी छेड़ी न थी, तब का नशा है ये पुराना उस सदी का जाम है।”

पीयूष मिश्रा के विचार और शायरी


“उसकी मेरी शक्ल अब मिलाने लगी हैं, रंग उस दीवार का यूँ उड़ गया”

“जीत की हवस नहीं किसी पे कोई वश नहीं, क्या ज़िन्दगी है ठोकरों पे मार दो, मौत अंत है नहीं तो मौत से भी क्यूँ डरें, ये जाके आसमान में दहाड़ दो…”


“पहले मुझको खुदा किया, फिर बुत मुझको बना दिया.”


“मैं तो हूँ तुम भी होगी जानम उस जकड़ी हालत में, जब खड़ी गवाही हम दोनों की होगी भरी अदालत में।”
“कोयल कहेंगी की मैं हूँ सहेली, मैना कहेंगी नहीं तू अकेली”

Best Piyush Mishra Poetry In Hindi


“आज मैंने फिर जज्बात भेजे, आज तुमने फिर अल्फाज ही समझे।”


“चुप-चाप बैठे हैं, आज सपने मेरे लगता हैं फिर, हकीकत ने सबक सिखाया हैं.”
“औकात नहीं थी जमाने में जो मेरी कीमत लगा सके। कम्बख्त इश्क में क्या गिरे मुफ्त में निलाम हो गए।”


“जीवन की राहो में जब-जब आए सागर मुश्किल के, यादों के पत्थर पर तेरा नाम लिखा और पार किया.”


“इस मुल्क की खातिर कितनों ने सीने पे गोली खाई है,तुम क्यों कहते हो आजा़दी बस चरखे ने दिलवाई है।”
“मैं हरदम ज़िंदा रहने का, ये राज़ तुम्हें बतलाता हूँ, रिश्ते मैं चंद बनाता हूँ , पर दिल से उन्हें निभाता हूँ”


“उसके मेरे बीच की दीवार था बस मैं, झाँक कर देखा तो उस पार था मैं.”

“ना जाने कब खर्च हो गए, पता ही नहीं चला। वो लम्हे जो छुपा कर रखे थे जीने के लिए।”
“रातों को चलती रहती हैं मोबाइल पे उंगलियां, सीने पे किताब रख के सोए काफी अरसा हो गया।”


“जो कर गुज़र तो बात है, ना कर गुज़र तो ग़म नहीं, जो हर घड़ी में कर गया, ऐसा कोई रुस्तम नहीं।”
“मैं तुमसे अब कुछ नहीं मांगता ए खुदा। तेरी देकर छीन लेने की आदत मुझे मंजूर नहीं।”

piyush mishra shayari in english

Naa muskurane par kisi ki mohar nahi hai, Udaasi kisi ke baap ki dharohar nahi hai.

Aaj tum na aaogi, kal main nhi mil paunga, Phir baat parso aa gayi – toh kaun kisko kya pata.

Mana ki yun sikandar kal ke ho jaoge, Main kahun ki ro do, halke ho jaoge.

Aao yaar pir ek baar zinda ho, baat karlen, Khaak ho gye hai mazak, phir bhi mazak kar len.Taqdeer jiske hukm se hum sang janme hai sabhi, Ki ranj, gham aur tanj mein band janme hai sabhi.

Abhi abhi kuch guzra hai, laparwah, dhoop mein daudta hua, zara palat Kar dekhoon toh, bachpan tha shayad!

Yahan roti nhi ummeed sabko zinda rakhti hai, Jo sadko par bhi sote hai, sirhane kwab rakhte hai.

Kal talak jo khaaq tha, aur raaste ki dhool tha, Ek daali se gira, thokar mein lipta phool tha.

Main hardam zinda rehne ka, ye raaz tumhe batlaata hoon, Rishte main chand banata hoon, par dil se unhe nibhata hoon.

piyush mishra shayari in english language

Daayra har baar banata hoon zindagi ke liye, lakire wahin rehti hai, mai khisak jaata hoon

Har insaan bikta hai yahan duniya mein, kitna mehenga kitna sasta, ye uski majbooriyat tay krti hai

Dard ki baarish mein hum akele hi the, jab barsi khushiyan, na jaane bheed kahan se aa gyiChand shikve, kuch shikayate, thodi maafi reh gayi. Yaad aaya tab, jab ki mai is jahan se chal chuka.

Aukaat nahi thi zamaane mein jo meri keemat laga sake, Kambakht ishq mein kya gire, neelam ho gye.

piyush misrha life shayari


Main tumse ab kuch nahi mangta ae khuda, Teri dekar cheen lene wali aadat mujhe manzoor nahi.

Insaan khud ki nazar mein khush Hona chahiye, duniya to bhagwaan se bhi dukhi hai

Haye re sikko ki jhankaar, sath mein dabi chavanni.

Umar bhar uthaya bojh us keel ne, Aur log tareef us tasveer ki karte rahe.Kal tak udti thi jo mu par, aaj pairon se lipat gayi, Chand boonde kya barsi barsaat ki, dhool ki fitrat badal gyi.

Halki phulki si hai zindagi, bojh toh khwaishon ka hai

Elaichi ke daano sa mukaddar hai apna, Mehak utni hi bikhri, peese gye jitna.

Ajeeb dastoor hai mohabbat ka, Rooth koi jaata hai, toot koi jaata hai.

Aaj maine phir jazbaat bheje, aaj tumne phir alfaaz hi samjhe

Kaagaz ke noto se aakhir kis kis ko kharidoge, Yahan kismat parakhne ke liye aaj bhi sikka hi uchala jata hai.

Sukoon milta hai do lafz kagaz par utaar kar, Cheekh bhi leta hun or awaz bhi nahi hoti.

Ae umar kuch kaha maine, tune suna nahi, Tu cheen sakti hai bachpan mera, magar bachpana nahi.

piyush mishra love shayari

Ishq ki rah bhi ajeeb hai. Kisi aur ka sikhaya ishq, kisi aur se karna padta hai.

Na jaane kab kharch ho gye, pta hi nhi chala, Wo lamhe jo bacha kar rakhe the jeene ke liye.

Sochta hoon dhoke se zeher de doon, saari khwaishon ko daawat par bula kar.

Ek itvaar hi hai jo rishton ko sambhalta hai, Baki din kishton ko sambhalne mein guzar jate hai.

Na chahat ke andaaz alag, na dil ke jazbaat alag, Thi saari baat lakeero ki, tere hath alag, mere hath alag.

Piyush Mishra Quotes

Kursi hai koi janaza toh nhi, Kuch kar nhi sakte toh utar kyun nhi jate?

Khwaishon ko Jeb mein rakh kr nikla kijiye janab, kharcha bahut hota hai manzilon ko paane mein.

Kaise karen hum khud ko tere pyaar ke kaabil, jab hum aadatein badalte hai, tum sharten badal dete ho.

piysuh misrha childhood shayari

Zindagi ka falsafa bhi kitna ajeeb hai, shaamein kat ti nahi aur saal guzarte chale ja rahe hain.

Kash tum ye samjh pate ki is kambakht kash se roz kitna ladta hoon mai.

Kal talak jo khaaq tha, aur raaste ki dhool tha, Ek daali se gira, thokar mein lipta phool tha.

दोस्तों उम्मीद है की आप सभी ने हमारे पोस्ट Piyush Mishra Quotes In Hindi को पढ़ा होगा और आप ने भरपुर लुफ्त उठाया होगा पीयूष मिश्रा के विचार और शायरी के.

अगर हमारा यह पोस्ट आप सभी के दिलों को छू गया हो तो इसे जरुर शेयर करे अपने दोस्तों में ताकि आप के चाहने वाले भी Beautiful Piyush Mishra Shayari का लुफ्त उठा सके. धन्यवाद सभी दोस्तों का आपने हमें अपना प्यार दिया और वाह हिंदी ब्लॉग को पसंद किया.